profile card
कालिदासचौथी-पाँचवीं शताब्दी ई.पू.
कालिदास संस्कृत भाषा के महान कवि और नाटककार थे। उन्होंने भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार बनाकर रचनाएं की और उनकी रचनाओं में भारतीय जीवन और दर्शन के विविध रूप और मूल तत्त्व निरूपित हैं। कालिदास अपनी इन्हीं विशेषताओं के कारण राष्ट्र की समग्र राष्ट्रीय चेतना को स्वर देने वाले कवि माने जाते हैं और कुछ विद्वान उन्हें राष्ट्रीय कवि का स्थान तक देते हैं
जन्म दिन
चौथी-पाँचवीं शताब्दी ई.पू.
जन्म स्थान
उत्तराखंड, रूद्रप्रयाग जिले के कविल्ठा गांव
भाषा
संस्कृत

 Quote
  Share
जिस प्रकार बड़ा छेद हो या छोटा वो नाव को डुबो देता है उसी तरह दुष्ट व्यक्ति की दुस्टता उसे बर्बाद कर देती है।

कालिदास

Read Poems, Books, Stories by Kalidas | Reading bharat

कालिदास


जन्म दिन: चौथी-पाँचवीं शताब्दी ई.पू.
जन्म स्थान: उत्तराखंड, रूद्रप्रयाग जिले के कविल्ठा गांव
भाषा: संस्कृत
उल्लेखनीय कार्य: ritu sanharam,  meghdutam,  nalodoyshringararasastakam , शकुन्तला उपाख्यान

कालिदास संस्कृत भाषा के महान कवि और नाटककार थे। उन्होंने भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार बनाकर रचनाएं की और उनकी रचनाओं में भारतीय जीवन और दर्शन के विविध रूप और मूल तत्त्व निरूपित हैं। कालिदास अपनी इन्हीं विशेषताओं के कारण राष्ट्र की समग्र राष्ट्रीय चेतना को स्वर देने वाले कवि माने जाते हैं और कुछ विद्वान उन्हें राष्ट्रीय कवि का स्थान तक देते हैं

जिस प्रकार बड़ा छेद हो या छोटा वो नाव को डुबो देता है उसी तरह दुष्ट व्यक्ति की दुस्टता उसे बर्बाद कर देती है।

- कालिदास -